1965 के युद्ध को 50 वर्ष होने पर शहीदों को किया याद

Aug 28 2015 11:13 AM
1965 के युद्ध को 50 वर्ष होने पर शहीदों को किया याद

नई दिल्ली : वर्ष 1965 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की 50 वीं वर्षगांठ पर अमर जवान ज्योति पर गण्मान्यजन ने शहादत को नमन किया। इस दौरान इन शहीदों को याद किया गया। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, रक्षामंत्री और तीनों सेनाओं के प्रमुखों ने 1965 के युद्ध में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान गणमान्यजन ने अमर जवान ज्योति पर पुष्पचक्र अर्पित किए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1965 के यद्ध की 50 वीं वर्षगांठ पर भारत के सैनिकों की वीरता को नमन किया। इस दौरान उन्होंने ट्विटर पर ट्विट कर कहा कि 1965 के युद्ध की 50 वीं वर्षगांठ पर मैं वीर सेनिकों के सामने सिर झुकाता हूं।

इन वीर सैनिकों ने मातृभूमि के लिए युद्ध में डंटकर लड़ाई की। मिली जानकारी के अनुसार 3 सप्ताह तक चली इस लड़ाई के बाद दोनों ही देश संयुक्त राष्ट्र द्वारा की गई अपील के आधार पर युद्धविराम के लिए सहमत हो गए थे। भारत के प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री और पाकिस्तान राष्ट्रपति अय्यूब खान के बीच ताशकंद में बैठक आयोजित की गई। इस ताशकंद समझौते में दोनों ही राष्ट्राध्यक्षों ने घोषणापत्र पर सहमति जताई और युद्ध विराम का निर्णय लिया गया।