सरकार ने लिया 5 हजार टन दाल आयात करने का फैसला

नई दिल्ली : देश में दाल के भाव आसमान छूने को अग्रसर हो रहे है और इस समस्या से निपटने के लिए सरकार ने एक नया तरीका निकाला है. जी हाँ, हाल ही में आयोजित की गई एक उच्च स्तरीय बैठक में ना केवल दालों के बढ़ते हुए मूल्य को लेकर बातचीत की गई है बल्कि साथ ही इसकी उपलब्द्धता को लेकर 5 हजार मीट्रिक टन अरहर दाल के आयात का भी फैसला लिया गया है. गौरतलब है कि इससे पहले ही 10 हजार मीट्रिक टन अरहर दाल और उड़द दाल के आयात का कहा गया था जोकि अभी तक क़तर में लगा हुआ है, यह भी कहा जा रहा है कि इसकी पहली खेप 23 सितंबर 2015 तक पहुँचने वाली है.

इसके साथ ही यह भी सामने आया है कि सरकार के द्वारा वाणिज्य, खाद्य, कृषि, राजस्व विभाग और मंत्रिमंडल सचिवालय के प्रतिनिधियों और उपभोक्ता मामले सचिव की अध्यक्षता में दाल के मूल्यों को कम करने को लेकर एक अन्य निगरानी तंत्र का भी गठन किया गया है, साथ ही यह भी बता दे कि यह गठन वस्तुओं की उपलब्द्धता पर भी नजर रखने वाला है.

साथ ही यह भी बता दे कि समिति ने घरेलू बाजारों में प्याज की उपलब्धता को बढ़ाये जाने के विषय में न्यूनतम निर्यात मूल्यों को 250 अमेरिकी डॉलर प्रति मीट्रिक टन से बढ़ाकर 425 अमेरिकी डॉलर प्रति मीट्रिक टन और इसके बाद 700 अमेरिकी डॉलर प्रति मीट्रिक टन कर दिया है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -