वे 5 अभयारण्य और राष्ट्रीय उद्यान जिनका आप मध्य प्रदेश में उठा सकते है आनंद

वे 5 अभयारण्य और राष्ट्रीय उद्यान जिनका आप मध्य प्रदेश में उठा सकते है आनंद

मध्य प्रदेश में एक आश्चर्यजनक वनस्पति और जीव हैं जो हर वन्यजीव प्रेमी के लिए देखने लायक है। मध्य प्रदेश में 9 राष्ट्रीय उद्यान और 25 वन्यजीव अभ्यारण्य हैं। इसमें राज्य में ही दुनिया के बाघों की आबादी का 10 प्रतिशत हिस्सा शामिल है।

बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान

मध्य प्रदेश की विंध्य पहाड़ियों के बीच बसा यह राष्ट्रीय उद्यान साल के पेड़ों से युक्त हरे-भरे हरियाली के साथ कुछ सबसे आकर्षक वन्य जीवन समेटे हुए है। यह राष्ट्रीय उद्यान एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण है जहाँ लोग बाघों को देखने आते हैं। इसमें 25 निवासी बाघ और पक्षियों की विभिन्न प्रजातियां शामिल हैं।

कान्हा राष्ट्रीय उद्यान

लुप्तप्राय वन्यजीव प्रजातियों के लिए प्रसिद्ध, यह राष्ट्रीय उद्यान भारत के सर्वश्रेष्ठ वन्यजीव अभयारण्यों में से एक है। रुडयार्ड किपलिंग की लोकप्रिय 'जंगल बुक' कान्हा नेशनल पार्क से प्रेरित थी। इसमें बड़े हरे घास के मैदान, खड्ड और छोटे बस्तियाँ हैं। आप काला हिरन, बाघ, बाइसन, तेंदुआ, लकड़बग्घा और बहुत कुछ देख सकते हैं।

पन्ना नेशनल पार्क

मध्य प्रदेश के छतरपुर और पन्ना जिले में स्थित पन्ना राष्ट्रीय उद्यान बाघों की आबादी के लिए प्रसिद्ध है। यह भारत का एक प्रसिद्ध टाइगर रिजर्व है जिसमें सभी प्रकृति प्रेमियों के लिए एक अनूठा आकर्षण है।

सिंघोरी वन्यजीव अभयारण्य

288 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला यह वन्यजीव अभयारण्य कई बाघों का घर है। यह पहाड़ियों और घाटियों से घिरे आश्चर्यजनक दृश्यों को समेटे हुए है। इसमें चौकीगढ़ किला, भंडारिया मंदिर और जामगढ़ की गुफाएं जैसे अन्य आकर्षण भी हैं।

कुनो वन्यजीव अभयारण्य

लुप्तप्राय एशियाई शेरों का घर, यह मध्य प्रदेश के सबसे प्रसिद्ध वन्यजीव अभयारण्यों में से एक है। भूमि के एक विशाल क्षेत्र में फैला, यह वास्तव में विंध्य पहाड़ियों में बसा एक छिपा हुआ रत्न है।

आप भी बना रहे है घूमने का प्लान, तो जरूर करें सैन एन्ड्रेस द्वीप की यात्रा

मानसून में जरूर देखने जाए राजस्थान की ये जगह

जानिए भारत के ये 5 प्रमुख हनीमून स्थल