कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट का दौर

कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट का दौर

अमेरिका में फ़िलहाल ब्याज दरों में कोई भी बढ़ोतरी नहीं की गई जिसके कारण कई प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले डॉलर में कमजोरी देखने को मिली है और इसके चलते ही कच्चे तेल के दामों में भी पिछले सप्ताह 5 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है. इस दौरान यह भी देखा गया है कि आलोच्य सप्ताह में जहाँ 3.3 प्रतिशत की नरमी के साथ 47.47 डॉलर पर देखने को मिला वही आलोच्य अवधि में अमरीकी क्रूड 4.8 प्रतिशत गिरावट के साथ 44.68 डॉलर पर देखा गया है. इस मामले में विश्लेषकों का यह कहना है कि ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं हुआ है जिसके चलते कच्चे तेल में कमी आई है.

इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि तेल उत्पादक देशो के समूह ओपेक ने भी अपनी भागीदारी को सुरक्षित रखने को लेकर कच्चे तेल का उत्पादन नहीं घटाया है जिसके कारण यह दबाव देखने को मिला है.लेकिन साथ ही यह बात भी सामने आई है कि अमेरिका में कच्चे तेल का उत्पादन करने वाले कुओं की संख्या में भी गिरावट आई है जिसके कारण इसे और भी अधिक गिरने से बचाया जा सका है. विश्लेषकों का यह भी कहना है कि अर्थव्यवस्था में लगातार गिरावट देखि जा रही है और इस कारण कच्चे तेल की कीमतों में सुधार भी बहुत ही धीमे होना है.