39 वर्ष पूर्व फूलन देवी ने ली थी 20 लोगों की जान, गोलीमार धरती की थी लहू लुहान

39 वर्ष पूर्व  फूलन देवी ने ली थी 20 लोगों की जान, गोलीमार धरती की थी लहू लुहान

कानपुर: यह बात तो लगभग सभी जानते है कि 14 फरवरी युवाओं के लिए वेलेंटाइन-डे के रूप में उत्साह और जोश लेकर आता है लेकिन बेहमई के लिए इस तारीख के मायने कुछ अलग ही हैं. जंहा यमुना किनारे बसे बेहमई में ठीक आज से 39 वर्ष पूर्व 14 फरवरी 1981 की शाम जब फूलन देवी ने गिरोह के साथ हमला कर दिया था. वहीं शाम कई घरों में हमेशा के लिए बड़ा अंधेरा पैदा कर गया था. जंहा उस वक्त कोई गिरोह जब भी यमुना नदी पार करके जालौन या कानपुर की सीमा में प्रवेश करता था तो अक्सर बेहमई से होकर ही निकलता था.

अभी तक मिली जानकारी एक अनुसार इस बात का पाता चला है कि डकैत खान-पान, रसद समेत तमाम प्रकार की जरूरतें यहीं के ग्रामीणों से पूरी करवाते थे. लालाराम गिरोह में जब कुसुमा नाइन और फूलन देवी शामिल थी, तब यहां आना - जाना खूब रहता था . उस वक्त गिरोह में विक्रम मल्लाह भी शामिल था. लेकिन ग्रामीणों द्वारा सभी के चेहरे पहचाने जाने लगे थे. बाबू सिंह गुर्जर की हत्या के बाद जब विक्रम मल्लाह की हत्या की गई तो गिरोहों के बीच जातीय खाई बढ़ गई थी. जंहा यह भी कहा जा रहा है कि विक्रम को श्रीराम - लालाराम ने एक दिन धोखे से सोते समय मार डाला था. फूलन के साथ कई प्रकार से दुर्व्यवहार हुआ था.  आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि गांव में किसी ने सोचा भी नहीं था कि आज बेहमई की धरती खूनी खेल से लाल हो जाएगी. फूलन ने गांव को घेरकर करीब 26 लोगों को बंधक बनाया था . सभी को गांव के बाहर लाकर गोलियां मारी गई थीं. बीस लोगों की मौके पर ही मौत हो गई. दो ने बाद में दम तोड़ दिया था. पुलिस रिकार्ड में मृतक आंकड़ा 20 तक ही सीमित रहा था. डाकुओं के निशाने पर रहे 22 ग्रामीणों में 19 ठाकुर, दो कठेरिया और एक मुसलमान थे.

राजाराम चंदेल और रोशन सिंह ने छिपकर देखा था खूनी मंजर: वहीं यह भी कहा जाता है कि ग्रामीणों पर जब डकैत गोलियां बरसा रहे थे. वहीँ इस बात पर वभि जब गौर किया गया तो पता चला गया है कि बेहमई के ही राजाराम चंदेल और उनके चचेरे भाई रोशन सिंह अपने जानवरों को लेकर पानी पिलाने नदी पर ले गए थे. गोलियों की गूंज से दौड़े तो डकैतों की बंदूकों से गोलियों की बौछार देख दूर ठिठक गए.  जंहा ओट लेकर खूनी मंजर देखा. सिकंदरा थाने में उनकी ओर से ही रिपोर्ट दर्ज कराने की पहल हुई थी.

चोर ने उड़ाए 2.67 करोड़ की ज्वेलरी, वजह जानकर आप रह जाएंगे हैरान

ट्रैफिक पुलिस का दोहरा मापदंड, क्या कर रही अपनों पर रहम और गैरो पर सितम?

छत्रपति शिवाजी मूर्ति हटाने पर सियासती पारा गरम, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जाएंगे सौंसर