इंदौर में बढ़ा कोरोना का कहर, 53 नए पॉजिटिव मरीज मिले

मध्य प्रदेश के इंदौर में कोरोना का कहर लगातार जारी है. शहर में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने के साथ ही मौत का आंकड़ा भी बढ़ता जा रहा है. रविवार को जांचे गए 922 सैंपल में से 53 मरीज पॉजिटिव मिले हैं. इन्हें मिलाकर शहर में कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 3530 हो चुकी है. तीन मरीजों की मौत की पुष्टि के बाद मृतकों की संख्या भी 135 तक पहुंच गई है. वहीं, रविवार को 100 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया, इसके साथ ही स्वस्थ होकर घर लौटे मरीजों की संख्या 1990 हो गई है. वहीं 1414 मरीजों का अस्पताल में इलाज किया जा रहा है.

हालांकि, सीएमएचओ ऑफिस से जारी आंकड़ों के मुताबिक, रविवार को जांचे गए 922 सैंपल में 865 मरीजों की जांच निगेटिव आई हैं, वहीं 663 सैंपल लिए गए हैं. अब तक 36 हजार 635 सैंपल जांचे गए हैं. इनमें से 1990 मरीज अस्पतालों से डिस्चार्ज होकर अपने घर जा चुके हैं.

बता दें की कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है. नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण (एनवीडीए) के उपयंत्री केसी खरे की रविवार को मौत हो गई. वे करीब एक पखवाड़े से बीमार थे. प्रशासन ने उन्हें निजी अस्पताल में मरीजों के इलाज की व्यवस्था देखने को लेकर नोडल अधिकारी बनाया था. खरे को बॉम्बे अस्पताल में भर्ती किया गया था. वहां से वे डिस्चार्ज होकर घर आ गए थे. पहले उनका कोरोना जांच के लिए सैंपल लिया गया था जिसकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी, लेकिन दो दिन पहले अचानक तबीयत खराब हो गई. शनिवार को स्वास्थ्य विभाग और पुलिस की टीम उन्हें फिर बॉम्बे अस्पताल ले गई. कोरोना संदिग्ध होने से वहां उनका उपचार करने से मना कर दिया गया. इस पर उन्हें अरबिंदो अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी मौत हो गई. इस बारें में स्वजन ने बताया कि कुछ साल पहले उन्हें लकवा का अटैक आया था, लेकिन वे ठीक हो गए थे. 15-20 दिन से उन्हें बोलने में परेशानी हो रही थी. विभाग के एसडीओ तिलकचंद यादव ने बताया कि खरे कुछ महीने में सेवानिवृत्त होने वाले थे.

मध्य प्रदेश कांग्रेस ने की एक जून से मंदिर खोले जाने की मांग, बताई यह वजह

विश्व के बाद भारत में कोरोना का डबल अटैक, वायरस से ठीक हुए मरीज दोबारा निकले संक्रमित

इंदौर के इस अस्पताल में कोरोना फैलने से नाराज हुए सीएम, नोटिस भेजने की कही बात

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -