24 वर्षीय सबसे उम्रदराज तेंदुए की नंदनवन में मौत

रायपुर : देश की सबसे उम्रदराज तेंदुआ होने का गौरव रखने वाली मादा तेंदुआ देवी की शुक्रवार को सुबह 5 बजे नंदनवन में मौत हो गई है। बीते दो वर्षो से वह बीमार चल रही थी। उसका लगातार इलाज चल रहा था। 24 वर्षीय देवी की मौत की खबर से नंदनवन के कर्मचारी से लेकर गांव वाले सभी हतप्रभ रह गए।

शव को पोस्टमार्टम कर दोपहर 2 बजे वन विभाग के अधिकारियों की मौजूदगी में अंतिम संस्कार कर दिया गया। उल्लेखनीय है कि देश में अब तक सबसे उम्रदराज मादा तेंदुआ लखनऊ जू में थी। जिसकी मौत 2014 में 23 वर्ष की उम्र में हुई थी।

नंदनवन के पशु चिकित्सक डॉ जयकिशोर जड़िया ने बताया कि तेंदुए की औसत उम्र 12 से 15 साल होती है। 5 दिन पूर्व ही देवी ने अपना 24वां जन्म दिन मनाया था। देवी की मां माधुरी को महासमुंद वन परिक्षेत्र से लाया गया था। तब वह गर्भवती थी। 23 मई 1992 को माधुरी ने देवी को जन्म दिया था।

तब से लेकर अब तक देवी नंदनवन में लाखों पर्यटकों को अपनी चाल और दहाड़ से आकर्षित करती थी। जन्मदिन पर केक भी काटा गया और पिंजरे के बाहर तोरण से हैप्पी बर्थ डे देवी लिखा गया था। देवी की देखभाल में लगे कर्मचारी इस खबर से रोने लगे।

इन कर्मचारियों को देवी पहचानती थी। इनकी एक आवाज पर वो खाने आ जाती थी। जब वो गुस्सा होती थी, तो दहाड़ती थी औऱ ऩहाते वक्त ढेरों शिकायतें करती थी।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -