बिहार में कम हुई संक्रमण की दर, हफ़्तों के बाद केवल 2 मौतें

बिहार में  कोविड की दूसरी लहर की रफ्तार सुस्त पड़ चुकी है। 23 दिन के उपरांत संक्रमितों में बड़ी गिरावट देखने को मिली है। बीते 24 घंटे में राज्य में 1491 नए केस सामने आए थे। जिससे यह आंकड़ा 7.04 लाख तक पहुंच चुके है। खास बात है कि राज्य के 38 जिलों में से 6 जिलों में 10 से कम नए कोविड संक्रमित मरीज मिले हैं। वहीं 48 नए लोगों की जान जाने की वजह से मरने वालों की संख्या 5,052 तक पहुंच गई है। 

ठीक होने की दर 96.29 प्रतिशत तक पहुंची: जंहा इस बात का पता चला है कि राज्य में बीते एक हफ्ते में 600 से अधिक लोगों की जान चली गई है, लेकिन पिछले कुछ दिनों से मृतकों का आंकड़ा 100 के करीब था और शनिवार को मरने वालों का आंकड़ा दो अंकों में पहुंच चुके है। राज्य में ठीक होने की दर 96.29 प्रतिशत तक पहुंच गई है। राज्य में लॉकडाउन का प्रभाव सकारात्मक नज़र आ रहा है। सरकार का बोलना है कि लॉकडाउन के कारण कोविड संक्रमण पर बहुत हद तक नियंत्रण पाया गया है। राज्य सरकार लॉकडाउन बढ़ाने पर विचार कर रही है।  

राज्य में टीकाकरण अभियान सफल: 13 करोड़ की कुल आबादी वाले राज्य में 1.03 करोड़ से ज्यादा लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। देश के अन्य राज्यों की अपेक्षा बिहार में टीकाकरण अभियान सफल चल रहा है। खासकर 18 से 44 वर्ष की आयु वाले लोगों को वैक्सीन दी जा चुकी है। बहुत तादाद में लोगों को टीका दिया जा चुका है। ब्लैक फंगस ने बढ़ाई चिंता: वहीं राज्य में कोविड महामारी भले ही कम हो गई है, लेकिन ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस के मरीज की संख्या बढ़ती ही जा रही है। हालांकि सरकार ने सूबे के सभी हॉस्पिटल को ब्लैक फंगस के उपचार करने के निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि राज्य में ब्लैक फंगस के मरीज तेजी से बढ़ रहे हैं। ऐसे में सभी अस्पताल उनका इलाज करने की व्यवस्था करें। 

सर्जरी के बाद बदला अनुराग कश्यप का लुक, नया अवतार देखकर चौंके फैंस

वीडियो शेयर कर बाबा रामदेव ने दिया IMA को चैलेंज, कहा- हिम्मत है तो आमिर खान से लें टक्कर...

फैंस से बात कर रहे थे विराट कोहली, अचानक बीच में आई अनुष्का और पूछा सवाल- मेरे हेडफोन कहां रखे हैं?

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -