श्री गुरु नानक देव जी के 20 अनमोल विचार

1-  कोई उसे तर्क द्वारा नहीं समझ सकता, भले वो युगों तक तर्क करता रहे.

2- बंधुओं ! हम मौत को बुरा नहीं कहते, यदि हम जानते कि वास्तव में मरा कैसे जाता है.

3- प्रभु के लिए खुशियों के गीत गाओ, प्रभु के नाम की सेवा करो, और उसके सेवकों के सेवक बन जाओ.

4- ना मैं एक बच्चा हूँ , ना एक नवयुवक, ना ही मैं पौराणिक हूँ, ना ही किसी जाति का हूँ.

5- तेरी हजारों आँखें हैं और फिर भी एक आंख भी नहीं ; तेरे हज़ारों रूप हैं फिर भी एक रूप भी नहीं.

6- धन-समृद्धि से युक्त बड़े बड़े राज्यों के राजा-महाराजों की तुलना भी उस चींटी से नहीं की जा सकती है जिसमे में ईश्वर का प्रेम भरा हो.

7- उसकी चमक से सबकुछ प्रकाशमान है.

8-  मेरा जन्म नहीं हुआ है; भला मेरा जन्म या मृत्यु कैसे हो सकती है.

9- दुनिया में किसी भी व्यक्ति को भ्रम में नहीं रहना चाहिए. बिना गुरु के कोई भी दुसरे किनारे तक नहीं जा सकता है.

10- भगवान एक है, लेकिन उसके कई रूप हैं. वो सभी का निर्माणकर्ता है और वो खुद मनुष्य का रूप लेता है.

11- वह जिसे खुद में भरोसा नहीं है उसे कभी ईश्वर में भरोसा नहीं हो सकता.

12-  दुनिया एक नाटक है, जो एक सपने में मंचित है.

13- केवल वो बोलो जो तुम्हारे लिए सम्मान लेकर आये.

14- जिन्होंने प्रेम किया है वे वो हैं जिन्होंने प्रेम को ढूंढ लिया है.

15- आपकी दया मेरी सामाजिक स्थिति है.

16- एक योगी को किस बात का भय? पेड़, पौधे, और जो कुछ भी अन्दर और भाहर है वह खुद ही है.

17-  नानक, पूरी दुनिया संकट में है. वह जो उसके नाम में यकीन करता है, विजयी हो जाता है.

18-  वह जो सभी लोगों को बराबर मानता है धार्मिक है.

19- अपने अस्तित्व के निवास में शांति से रहो, और मृत्यु दूत तुम्हे छू भी नहीं पायेंगे.

20- इस दुनिया में जब तुम खुशियाँ मांगते हो दर्द सामने आ जाता है.

क्या मेडिकल कॉलेज के 'ऑल इंडिया कोटे' में मिलेगा आरक्षण ? केंद्र को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस

Chai quotes : सर्दियों के बस दो ही जलवे, तुम्हारी याद और चाय

शराब पर प्रतिबंध नहीं लगाया तो मैं सड़क पर उतर जाउंगी: उमा भारती

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -