स्वामी विवेकानंद जी के 20 अनमोल विचार जो बदल देंगे आपकी जिंदगी

1- उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक लक्ष्य की प्राप्ति ना हो जाये। – स्वामी विवेकानंद

2- खुद को कमजोर समझना सबसे बड़ा पाप हैं।

3- सत्य को हज़ार तरीकों से बताया जा सकता है, फिर भी हर एक सत्य ही होगा।

4- बाहरी स्वभाव केवल अंदरूनी स्वभाव का बड़ा रूप हैं।

5- विश्व एक विशाल व्यायामशाला है जहाँ हम खुद को मजबूत बनाने के लिए आते हैं।

6- दिल और दिमाग के टकराव में दिल की सुनो।

7- शक्ति जीवन है, निर्बलता मृत्यु हैं। विस्तार जीवन है, संकुचन मृत्यु हैं। प्रेम जीवन है, द्वेष मृत्यु हैं।

8- “जब तक जीना, तब तक सीखना” – अनुभव ही जगत में सर्वश्रेष्ठ शिक्षक हैं।

9- जब तक आप खुद पर विश्वास नहीं करते तब तक आप भागवान पर विश्वास नहीं कर सकते।

10- चिंतन करो, चिंता नहीं, नए विचारों को जन्म दो।

11- जो कुछ भी तुमको कमजोर बनाता है – शारीरिक, बौद्धिक या मानसिक उसे जहर की तरह त्याग दो।

12-  हम जो बोते हैं वो काटते हैं। हम स्वयं अपने भाग्य के निर्माता हैं।

13- जब लोग तुम्हे गाली दें तो तुम उन्हें आशीर्वाद दो। सोचो, तुम्हारे झूठे दंभ को बाहर निकालकर वो तुम्हारी कितनी मदद कर रहे हैं।

14- तुम फ़ुटबाल के जरिये स्वर्ग के ज्यादा निकट होगे बजाये गीता का अध्ययन करने के।

15- कुछ मत पूछो, बदले में कुछ मत मांगो। जो देना है वो दो, वो तुम तक वापस आएगा, पर उसके बारे में अभी मत सोचो।

16- हर काम को तीन अवस्थाओं से गुज़रना होता है – उपहास, विरोध और स्वीकृति।

17- वह नास्तिक है, जो अपने आप में विश्वास नहीं रखता।

18- जो अग्नि हमें गर्मी देती है, हमें नष्ट भी कर सकती है। यह अग्नि का दोष नहीं है।

19- अनुभव ही आपका सर्वोत्तम शिक्षक है। जब तक जीवन है सीखते रहो।

20- “भय और अपूर्ण वासना ही समस्त दुःखों का मूल है।”

BB14 से बेघर होते ही शादी को लेकर जैस्मिन ने किया चौकाने वाला खुलासा

राजद्रोह केस: आज कंगना रनौत की याचिका पर HC में होगी सुनवाई

कर्नाटक कैबिनेट का विस्तार आज, शाह-नड्डा से मिले सीएम येदियुरप्पा

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -