निकाय चुनाव में भाजपा के 2 मुस्लिम प्रत्याशी जीते

Dec 02 2017 03:39 PM
निकाय चुनाव में भाजपा के 2 मुस्लिम प्रत्याशी जीते

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी ने उत्तरप्रदेश के नगरीय निकाय चुनाव में शानदार जीत दर्ज की है। हालांकि कुछ वार्डस में भाजपा के प्रत्याशियों को निर्दलीय प्रत्याशियों से भी हारना पड़ गया है। मगर अधिकांश वार्ड भाजपा के कब्जे में आए हैं। हालांकि मुस्लिम प्रत्याशियों की बात की जाए तो भाजपा को अधिक सफलता नहीं मिली है। इस मामले में तो एआईएमआईएम को सफलता मिली है। विधानसभा चुनाव के फाॅर्मूले के ही तरह, भाजपा ने इस चुनाव में भी बड़े पैमाने पर मुस्लिम प्रत्याशियों को मैदान में नहीं उतारा था।

मगर दो प्रत्याशी मैदान में थे। इस बार, भाजपा ने निकाय चुनाव में शानदार जीत दर्ज की। बीजेपी ने नगर निगम पार्षद की कुल 1300 सीटों में 592 पर जीत दर्ज की है,जबकि नगर पालिका परिषद अध्यक्ष की कुल 198 में 67 सीटों पर उसे कामयाबी मिली है।

नगर पंचायत अध्यक्ष की बात की जाए, तो कुल 438 सीटों में 100 पर बीजेपी को जीत मिली है। भारतीय जनता पार्टी ने इस वर्ष मार्च माह में हुए, विधानसभा चुनाव में किसी मुस्लिम को टिकट नहीं दिया गया, इसके बाद निकाय चुनाव में पार्टी ने करीब 187 प्रत्याशी मैदान में उतारे थे। इन प्रत्याशियों में से 19 टिकट नगर पालिका परिषद व नगर पंचायत अध्यक्ष पद के लिए जारी किए गए थे।

दूसरी ओर, नगर निगम पार्षद, नगर पालिका सदस्य व नगर पंचायत सदस्य हेतु जो टिकट दिए गए  थे,  उनके परिणाम उत्साहित करने वाले नहीं थे। हालांकि सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम ने 29 सीटों पर जीत अर्जित की है। भाजपा अफजलगढ़ की सीट को जीतने में सफल रही। यह क्षेत्र महिलाओं के लिए, आरक्षित था। जिस पर भाजपा ने शहाना परवीन को टिकट दिया था।

इस सीट के लिए, हुए निर्वाचन में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी जावेद विकार को भाजपा प्रत्याशी ने हराया। बीजेपी को एक जीत राजधानी लखनऊ में मिली है। यहां के वार्ड नंबर 89 से फैसल अली खां ने जीत दर्ज की है। इन दो उम्मीदवारों के अलावा पूरे सूबे में बीजेपी के टिकट पर लड़ने वाला कोई भी मुस्लिम उम्मीदवार जीत हासिल नहीं कर सका है। अर्थात् बीजेपी के 187 मुस्लिम प्रत्याशियों में से दो ने परचम लहराया है।

मायावती ने की मतपत्र से चुनाव कराने की मांग

इसलिए सोमनाथ दर्शन से बढ़ सकती है राहुल की परेशानी

भाजपा की आंधी को गांधी ने रोका

इसलिए अहम है भाजपा के लिए गुजरात में चुनाव