आगामी चुनाव बैलेट पेपर पर कराने के लिए 17 दल चुनाव आयोग से मिले

Aug 02 2018 05:51 PM
आगामी चुनाव बैलेट पेपर पर कराने के लिए 17 दल चुनाव आयोग से मिले

नई दिल्ली। 2016 के विधानसभा चुनाव मे जब विपक्ष की पार्टियो ने ईवीएम मशीन के हैक होने की बात कही थी तब चुनावो को दोबारा बैलेट पेपर पर करने का मामला उठा था। उस वक्त इस मामले को लेकर काफी विरोध प्रदर्शन भी हुआ था लेकिन अंत मे चुनाव आयोग ने ईवीएम के हैक किए जाने के दावे को सिरे से खारिज कर दिया था।

लेकिन अब बैलेट पेपर का मामला वापस तूल पकड़ रहा है। इस बार 17 राजनैतिक दलों ने चुनाव आयोग से 2019 के आगामी चुनाव को बैलेट पेपर पर कराने की मांग की है। चुनाव आयोग ने अभी तक इन दलों के नाम सार्वजनिक नहीं किए है लेकिन सूत्रो के मुताबिक खबर है कि इन दलों मे काँग्रेस, समाजवादी पार्टी, और बहुजन समाजवादी पार्टी भी शामिल है।

इसके साथ ही कुछ ही दिन पहले समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने घोषणा की थी कि अगर अगले चुनाव बैलट से नहीं हुए तो वह बैलट सत्याग्रह चलाएंगे। उन्होने कहा कि “देश और लोकतंत्र के भविष्य के लिए हम सबसे अपील करते हैं कि वो ईवीएम को हटाए जाने के लिए हमारा साथ दें।” वहीं पार्टी के प्रमुख महासचिव प्रफेसर रामगोपाल यादव ने चेतावनी दी थी कि इस मांग को लेकर सभी पार्टियों के साथ आंदोलन भी किया जा सकता है। सूत्रो का कहना है कि चुनाव आयोग द्वारा बैलेट पेपर से चुनाव करने की मांग न माने जाने पर आयोग के बाहर धारणा देने की भी योजना बन रही है।

खबरें और भी 

2019 चुनाव में होगा 100% वीवीपीएटी मशीन का इस्तेमाल- चुनाव आयोग

चुनाव आयोग के फैसले से बौखलाई पाकिस्तानी सियासत

अखिलेश यादव को अपने सरकारी बंगले मे तोड़-फोड़ करना पड़ा महंगा, लग सकता है 10 लाख का जुर्माना

?