आख़िरकार रुला के गया मानसून सीजन

आख़िरकार रुला के गया मानसून सीजन

मानसून का यह सीजन सितम्बर माह के साथ ही खत्म हो गया है लेकिन इस बार मानसून ने सभी को बहुत प्रभावित किया है. यह बताया जा रहा है कि इस सीजन में बारिश को अनुमान से भी बहुत कम देखा गया है. जी हाँ, मामले में आपको इस बात से अवगत करवा दे कि इस साल मानसून सीजन यानि 1 जून से लेकर 30 सितम्बर तक सामान्य से 14 फीसदी कम बारिश देखने को मिली है. भारतीय मौसम विभाग ने इस मामले में यह अंदेशा लगाया था कि इस साल 12 फीसदी कम वर्षा होना है लेकिन यह अनुमान से 2 फीसदी ज्यादा कम हुई है.

इस दौरान यह बात भी सामने आई है कि देश के 39 इलाकों में कम बारिश देखने को मिली है जबकि बाकि के इलाकों में कही सामान्य तो कहीं सामान्य से कुछ ज्यादा बारिश देखने को मिली है. बात करें दक्षिण भारत की तो यहाँ यह देखने में आया है कि मानसून वक़्त से पहले ही शुरू हो चूका था लेकिन यहाँ 26 फीसदी कम बारिश देखी गयी है. वहीँ साथ ही कर्नाटक और तेलंगाना में भी कम बारिश हुई है.

पूर्वी मध्यप्रदेश में बारिश के मामले में यह कहा जा रहा है कि यहाँ सामान्य से 29 फीसदी कम बारिश हुई है. इसके अलावा हिमाचल प्रदेश में 23 फीसदी, पंजाब में 32 फीसदी और हरियाणा में 37 फीसदी कम बारिश देखने में आई है. जबकि उत्तर प्रदेश में यह आंकड़ा 47 फीसदी तक पहुँच गया है. कम बारिश को लेकर यह कहा जा रहा है कि उत्पादन पर इसका बहुत ही बुरा असर होने वाला है.