डब्ल्यूएफआइ ने कहा, खेलो इंडिया के दौरान जीते गए मैडल लौटाएं 12 पहलवान

Sep 13 2020 04:47 PM
डब्ल्यूएफआइ ने कहा, खेलो इंडिया के दौरान जीते गए मैडल लौटाएं 12 पहलवान

स्पोर्ट्स पर डोपिंग की दिक्कतें बहुत बड़ी मुश्किलें लेकर आई है। कई बड़े प्लेयर्स डोपिंग में फंसने के कारण अपना करियर बर्बाद कर चुके हैं। रेसलिंग एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया ने 12 रेसलिंग को खेलो इंडिया के मैडल तथा प्रशस्ति लेटर लौटाने को कहा है, क्योंकि यह सभी रेसलर टूर्नामेंट के दौरान लिए गए डोप टेस्ट में विफल हो गए हैं। वही इंडियन स्पोर्ट्स को डोप मुक्त बनाने की कशिश है, तथा जमीनी लेवल पर इसको लेकर कार्य किया जा रहा है।

साथ ही प्लेयर्स को इसके प्रति जागरूक किया जा रहा है, साथ-साथ डोप में फंसने वाले प्लेयर्स के विरुद्ध कठोर कदम भी उठाए जा रहे हैं। सूत्र ने कहा कि डब्ल्यूएफआइ के सहायक सेक्रेटरी विनोद तोमर ने कहा कि गवर्मेंट ने हमसे पहलवानों से मैडल तथा प्रशस्ति लेटर लेने के लिए कहा है, तथा यही कारण है कि हमने इन रेसलिंग को यह आदेश दिया है। अब तक खेलो इंडिया गेम्स के चार सत्र हो चुके हैं।

वही नेशनल डोपिंग एजेंसी जिसे नाडा के नाम से भी जाना जाता है उसकी रिपोर्ट के मुताबिक, इस दौरान टोटल 12 रेसलिंग डोप टेस्ट में सकारात्मक पाए गए हैं। इन सभी रेसलिंग से 18 सितंबर तक डब्ल्यूएफआइ ऑफिस में मैडल तथा प्रशस्ति लेटर लौटाने को कहा है। ऐसी इसलिए किया जा रहा है जिससे उनको भविष्य में ऐसी किसी प्रकार की चीजों से बताया जा सके। साथ-साथ रेसलरों के डोपिंग में फंसने के कारण इसकी बदनामी भी बहुत हुई है। वही राज्य कुश्ती संघों से भी मैडल लौटाने में डब्ल्यूएफआइ की सहायता करने के लिए कहा गया है। वही अब देखना ये है की आगे इस पर क्या निर्णय लिया जाता है।

अख्तर का बड़ा बयान, कहा- BCCI ने इस बिगड़ैल क्रिकेटर को बनाया ब्रांड

मैच खेलने से पहले श्रीलंका के खिलाड़ियों को रहना होगा क्वारंटाइन

7 वर्ष बाद मैदान पर वापसी कर सकते है श्रीसंत