वायु प्रदूषण के कारण भारत में हुई 1.16 लाख शिशुओं की मौत

Oct 21 2020 03:55 PM
वायु प्रदूषण के कारण भारत में हुई 1.16 लाख शिशुओं की मौत

नवजात शिशुओं पर वायु प्रदूषण के वैश्विक प्रभाव का पहला विस्तृत विश्लेषण 2019 में अपने जीवन के पहले महीने में 1,16,000 से अधिक भारतीय शिशुओं की मृत्यु के बारे में बताता है। बाहरी और घरेलू कणों के मामले प्रदूषण ने मौतों में योगदान दिया है। अध्ययन से घरेलू वायु प्रदूषण के जोखिम में कमी का पता चलता है। आउटडोर प्रदूषण PM2.5 के बारे में स्थिर था। PM2.5 ने इनमें से 50% से अधिक की मृत्यु की सूचना दी है और शेष खाना पकाने के लिए लकड़ी का कोयला, लकड़ी और गोबर जैसे ठोस ईंधन उपयोग के कारण है।

वर्ष 2019 में भारत में स्ट्रोक, दिल का दौरा, मधुमेह, फेफड़ों के कैंसर, पुरानी फेफड़ों की बीमारियों और नवजात रोगों के कारण बाहरी और घरेलू वायु प्रदूषण के दीर्घकालिक जोखिम के कारण 1.67 मिलियन वार्षिक मृत्यु हुई है। कम जन्म के वजन और अपरिपक्व जन्म भी सबसे कम उम्र के शिशुओं की मृत्यु की ओर जाता है। हेल्थ इफेक्ट्स इंस्टीट्यूट (HEI) द्वारा प्रकाशित वार्षिक ग्लोबल एयर 2020 की रिपोर्ट बताती है कि वायु प्रदूषण सभी स्वास्थ्य जोखिमों में मृत्यु का सबसे बड़ा जोखिम कारक है। रिपोर्ट के अनुसार, भारत, बांग्लादेश, पाकिस्तान और नेपाल शीर्ष 10 देशों में शामिल हैं, जिनमें 2019 में सबसे अधिक PM2.5 एक्सपोजर हैं, यह 2010 और 2019 के बीच बढ़ा।

भारत में, प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना घरेलू एलपीजी कार्यक्रम और अन्य योजनाओं से स्वच्छ ऊर्जा की पहुंच होती है, खासकर ग्रामीण परिवारों के लिए। इस साल स्टेट ऑफ ग्लोबल एयर की रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि सभी कारणों से होने वाली नवजातों की मृत्यु का लगभग 21% परिवेश और घरेलू प्रदूषण से प्रभावित होगा।

पुलवामा में मुठभेड़ जारी, आतकियों की माँ से करवाई जा रही ये खास अपील

आरएटी में 50% की गिरावट, मैसूरु में पिछले हफ्ते बढ़ी पीसीआर: COVID-19 टेस्ट

इस महिला ने किया कमाल 'साइकिल यात्रा' कर पहुंची माँ वैष्णों धाम