केरल से ISIS में भर्ती हुए 100 लोग, 94 मुस्लिम, 5 कनवर्टेड.., सबसे शिक्षित राज्य का 'काला सच' आया सामने

कोच्ची: केरल के सीएम पिनाराई विजयन ने एक प्रेस मीटिंग में खुलासा करते हुए बताया कि वर्ष 2019 तक केरल से आतंकी संगठन ISIS में शामिल होने वाले 100 मलयालियों में से तक़रीबन 94 मुस्लिम थे। ISIS आतंकियों की भर्ती पर बोलते हुए, विजयन ने बताया कि, 'सरकार ने तथ्यों की पुष्टि की है कि ISIS में शामिल होने वाले 100 मलयाली लोगों में से 72 पेशेवर उद्देश्यों के लिए विदेश गए थे, मगर ISIS की विचारधारा से आकर्षित हो गए और आतंकी संगठन में भर्ती हो गए। इन 72 लोगों में से सिर्फ एक हिंदू था, जबकि अन्य मुस्लिम समुदाय से थे।'

विजयन ने आगे कहा कि, 'अन्य 28 लोगों ने आतंकी संगठन की विचारधारा से प्रभावित होने के बाद विशेष रूप से ISIS में भर्ती होने के लिए केरल छोड़ दिया था। 28 में से सिर्फ पाँच को अन्य धर्मों से इस्लाम में कन्वर्ट किया गया था।’ उल्लेखनीय है कि 2019 के कई मीडिया रिपोर्ट में सुरक्षा एजेंसियों के हवाले से ISIS में भर्ती हुए केरल के लोगों की जानकारी और तस्वीर भी सामने आई थी। उसी सम्मेलन में, सीएम विजयन ने 'लव जिहाद' और 'नारकोटिक्स जिहाद' के आसपास जो अभी संगठित विवाद जारी है, उसे बेबुनियाद करार देते हुए पाला बिशप को ‘राज्य के धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने को नुकसान पहुँचाने’ के लिए फटकार लगाई

इसके साथ ही, बिशप द्वारा ‘नारकोटिक्स जिहाद’ पर लगाए गए आरोपों को खारिज करने के लिए, सीएम विजयन ने ड्रग्स पर सरकारी आँकड़ों का हवाला देते हुए दावा किया कि मादक पदार्थों की तस्करी और धर्म के बीच कोई ताल्लुक नहीं था। सीएम पिनराई विजयन ने बताया कि, '2020 में नारकोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस एक्ट (NDPS) 1985 अधिनियम के तहत, केरल में 4,941 केस दर्ज किए गए थे। इन मामलों के 5,422 आरोपितों में से 2700 (49.80 फीसदी) हिंदू थे, 1869 (34.47 फीसदी) मुस्लिम थे, जबकि 853 (15.73 फीसदी) ईसाई थे।'

सफर के दौरान काम में जुटे रहे प्रधानमंत्री मोदी, फोटो हुई वायरल

यूएस एफडीए ने 65 से ऊपर के लोगों के लिए कोविड बूस्टर शॉट को दी मंजूरी

एस जयशंकर ने की तंजानिया के विदेश मंत्रियों से मुलाकात

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -