अगर मनुष्य के पास हैं ये तीन चीजें तो धरती पर मिलता है स्वर्ग: चाणक्य नीति

आचार्य चाणक्य की नीतियां सभी जगह अपनाई जाती है और इन्हे बहुत बेहतरीन और कारगर बताया जाता है. ऐसे में हम सभी इस बात से वाकिफ हैं कि देश ही नहीं बल्कि विदेश में भी चाणक्य की नीतियां खूब प्रचलित हैं वहीं नीति शास्त्र के महान ज्ञाता रहे आचार्य चाणक्य ने जीवन की परेशानियों से बचने के लिए चाणक्य नीति में अनकों नीतियों का उल्लेख किया हैं जो अगर व्यक्ति समझ जाए तो उसका जीवन आसान हो सकता है. इसी नीतियों में एक श्लोक के द्वारा वे बताते हैं कि ''तीन चीजें मनुष्य के पास हो तो वह धरती पर ही स्वर्ग के सुख की अनुभूति कर सकता हैं.'' अब आइए जानते हैं कि वो कौन सी चीजें हैं...?

श्लोक - 'यस्य पुत्रो वशीभूतो भार्या छन्दानुगामिनी. विभवे यश्च सन्तुष्टस्तस्य स्वर्ग इहैव हि..'

अर्थ- जी दरअसल आचार्य चाणक्य अपने नीति शास्त्र यानी चाणक्य नीति के दूसरे अध्याय में लिखे इस श्लोक के माध्यम से बताते हैं कि ''अगर किसी मनुष्य की संतान उसकी बातों को मानती है, उसकी आज्ञा का पालन करती हैं और माता पिता का सम्मान करती हैं तो माता पिता के लिए ऐसी स्थिति किसी स्वर्ग के से कम नहीं होती हैं.'' इस तरह उन्होंने संतान के बारे में बताया है. इसी के साथ उन्होंने कहा है, ''अगर संतान माता पिता की बातों को अनसुना करके उनका अपमान करें तो उनका जीवन नर्क के समान हो जाता हैं.'' 

इसी के साथ चाणक्य ने बताया है कि भार्या यानी पत्नी अगर सहयोगी और बातों को सुनने व समझने वाली हैं तो व्यक्ति हमेशा ही सुखी रहता हैं वहीं अगर पत्नी पति का कहना न माने तो विवाद उत्पन्न हो सकते हैं और फिर दोनों का जीवन कठिन हो जाता हैं.


इसी के साथ श्लोक के अंत में आचार्य चाणक्य ने कहा है कि संस्कारी संतान और बात मानने वाली पत्नी के साथ मनुष्य के पास पर्याप्त धन हो तो उसे धरती पर ही स्वर्ग मिल जाता है.

अगर शरीर के इस अंग पर हो तिल तो लड़कियों को मिलते हैं नौकर-चाकर

कभी भूल से भी ना चबाएँ तुलसी के पत्ते, जानिए तोड़ने के नियम

हर दिन 90 मिनट के होते हैं अशुभ मुहूर्त, जानिए हर दिन का समय

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -