नेहरू ने कराई थी सुभाष चंद्र बोस की हत्या

Apr 13 2015 10:41 AM
नई दिल्ली : नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जासूसी का मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा है कि सुभाष चंद्र बोस के गनर के एक नए खुलासे से राजनीती फिर गरमा गई है. लगातार 13 महीने तक सुभाष चंद्र बोस के गनर एवं वयोवृद्ध स्वतंत्रता सेनानी जगराम ने हाल ही में खुलासा करते हुए कहा है कि नेता जी की मौत विमान दुर्घटना में नहीं हुई थी बल्कि उनकी हत्या की गई थी. अपनी बात को मजबूती के साथ रखते हुए जगराम ने कहा है कि अगर बोस की मृत्यु विमान हादसे में होती तो कर्नल हबीबुर्रहमान जिन्दा कैसे बच गया, जब कि वह तो दिन रात बोस के साथ ही रहता था.
 
जगराम ने कहा है कि कर्नल आजादी के बाद पाकिस्तान चला गया था. बोस की हत्या के संदर्भ में जगराम ने आशंका जाहिर करते हुए कहा है कि, "मुझे सौ फीसदी यकीन है कि नेहरू के कहने पर रूस के तानाशाह स्टालिन ने बोस को रूस में फांसी दी थी. जगराम के अनुसार बोस के सामने नेहरू की भूमिका कुछ भी नहीं थी. बोस के परिजनों की जासूसी इस बात का सबूत है कि नेहरू, बोस से कितना खौफ खाते थे.
 
जगराम का कहना है कि बोस की लोकप्रियता पूरी दुनिया में थी. जर्मनी का हिटलर, इटली का मुसोलिनी, जापान का तोजो सहित उस समय के सभी बड़े नेता बोस से मिलकर गर्व महसूस करते थे, यही वजह रही कि नेहरू सहित देश के कई नेताओ को वें अच्छे नहीं लगते थे. इसीलिए नेताओ ने बोस की मौत की फाइल दबा दी.
 
इसके अलावा जगराम का कहना है कि बोस को पूरी दुनिया में मान-सम्मान मिला है, लेकिन अपने देश में नहीं. दुर्भाग्य है कि उनके और उनके परिजनों के प्रति सम्मान दिखाने की बजाय जासूसी कराई गई. यह इस बात का प्रमाण है कि पंडित नेहरू नेता जी के सामने कितने बौने थे.
 
Popular Stories
?