साँझा पर्व आश्विन माह की पूर्णमासी से अमावस्या तक मनाया जाता है

मालवा,निमाड़ में अभी भी प्रचलित है, यह परम्परा

साँझा एक देवी का नाम है, जिसे महिलाएँ घर की दीवार पर बनाती है

इस पर्व को कुंवारी कन्याओं द्वारा मनाया जाता है

साँझा देवी को चूङियां, फूल, सिन्दूर व रंग बिरंगे कपड़ों से सजाया जाता है

Next : नवरात्रि से दिवाली तक आप ट्राय कर सकते है बॉलीवुड एक्ट्रेसेस के ये लुक