पुण्यतिथि विशेष : दो बार सांसद बन कांग्रेस का विरोध कर चुके फ़िरोज़ गाँधी

Sep 08 2018 01:34 PM

नई दिल्ली : फ़ीरोज़ गाँधी भारत के एक  प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी थे. इनका जन्म 12 सितम्बर, 1912 ई. को मुम्बई के एक अस्पताल में पारसी परिवार में हुआ था. फ़ीरोज़ गाँधी ने लंदन के ‘स्कूल ऑफ़ इकोनोमिक्स’ से अंतर्राष्ट्रीय क़ानून में स्नातक की डिग्री प्राप्त की है. फ़ीरोज़ गाँधी ने 1946 में लखनऊ के दैनिक पत्र  नेशनल हेराल्ड  के प्रबन्ध निर्देशक का कार्यभार संभाला. मार्च, 1942 ई. में फ़ीरोज़ गाँधी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री ज्वाहरलाल नेहरू की पुत्री  इंदिरा गाँधी से विवाह कर लिया. 1952 के प्रथम आम चुनाव में वे लोकसभा के सदस्य चुने गए. इसके बाद फ़िरोज़ ने लखनऊ छोड़ दिया. बाद में कई सालों तक इंदिरा, नेहरू जी के साथ रहे. 

LGBTOI: वो सेलेब्स और नेता जिन्होंने खुलकर माना कि वो समलैंगिक हैं

1956 में फ़िरोज़ गांधी ने प्रधानमंत्री निवास में रहना छोड़ दिया और वे सांसद के साधारण मकान में अकेले ही रहने लगे. 1957 में एक बार फिर वह लोकसभा के सदस्य निर्वाचित हुए.  1958 में संसद भवन में फ़िरोज़ गांधी ने हरिदास मुंधरा के सरकारी नियंत्रण की LIC बीमा कंपनी के स्कैंडल में शामिल होने का मुद्दा भी खूब उठाया था. जिसके कारण उस वक्त के कारण वित्त मंत्री टी. टी. कृष्णमाचारी को अपने पद से हटना पड़ा.

कैलाश मानसरोवर से आई राहुल गांधी की पहली तस्वीर

फ़िरोज़ गांधी खुले तोर पर  नेहरू परिवार से अपने सम्बन्धों की परवाह छोड़ कर प्रधानमंत्री की नीतियों का विरोध किया करते थे. वर्ष 1960 में फ़िरोज़ को दिल का दौरा पड़ा और 8 सितम्बर, 1960 ई. को फ़ीरोज़ गाँधी का देहान्त हो गया.

खबरे और भी...

शाहजहांपुर में कार में लिफ्ट देने के बहाने महिला से बलात्कार

अगर आप भी है PNB के ग्राहक तो यह खबर जरूर पढ़े

आज ही नहीं, पौराणिक काल में भी थे समलैंगिक संबंध

Related News