गणेश चतुर्थी 2018: यदि इस गणेश चतुर्थी में किया इन मंत्रों का जाप तो मिलेगा मनचाहा वरदान

Sep 08 2018 05:48 PM

भोपाल। गणेश चतुर्थी नजदीक आ रही है और इसके साथ ही इसे लेकर भगवान् गणेश के भक्तो का जोश बढ़ते ही जा रहा है। इन दिनों देश में जगह-जगह गणपति के मंदिरों की साज सज्जा चल रही है और जगहों-जगहों पर गणेश जी की झांकियां  भी सजाई जा रही हैं। इसके साथ ही हर घर में गणेश जी की पूजा अर्चना करने की भी तैयारियां की जा रही है। 

गणपति जी की स्थापना से पूर्व इन 6 बातों का विशेष ध्यान रखें

तो आइये हम आपको बताते है भगवान् गणेश से जुड़े कुछ ऐसे मंत्र जिनको जपने से गणेश जी प्रस्सन हो कर मनमाने वरदान देते है। 

उद्यदिनेश्वर रूचिं निजहस्तपद्मै: पाशांकुशा भयवरान् दधतं गजास्यां रक्तां वरम् सकल दुख हरं गणेशं ज्ञायेत् प्रसन्न मखिरा भरणाभिरामम्

उच्छिष्ट गणेश

शरान्धनु: पाशसृणि पहस्तै दधानमारक्त सरोरुहस्थम्। विवस्त्र पतन्या सुरत प्रवृत्त मुच्छिष्ट ममवासुतमाश्रयेहम्।।

वास्तु के अनुसार मुख्य दरवाजे पर इस तरह विराजमान करे गणेशजी की मूर्ति

लक्ष्मी-विनायक मंत्र:- श्रीं गं सौम्याय गणपतये वर वरद सर्वजनं मे वशमानाय स्वाहा

अन्य मंत्र

गं क्षित्र प्रसादनाय नम:

"श्रीं ह्रीं क्लीं ग्लौं गं गणपतये वर वरद सर्वजन में वशमानाय स्वाहा"

उल्लेखनीय है कि इस बार गणेश चतुर्थी 14 सितंबर से शुरू हो रही है। इस दस दिनी गणेश महोत्सव के  दौरान ऊपर दिए गए मंत्रो का जाप करने से मनमाने वरदान प्राप्त होते है और यह पुरे परिवार के लिए भी अत्यंत कल्याणकारी होता है। 

 

 

यह भी पढ़े 

गणेश चतुर्थी 2018 : इन खूबसूरत रंगोली को बनाकर बढ़ाए अपने घर की शोभा

यह है घर पर गणपति की स्थापना और पूजन का सही तरीका

इस तरह घर पर ही तैयार करे गणेश जी के लिए मोदक

Related News