नाबालिग से बलात्कार करने के बाद, अब दया की भीख मांग रहा आसाराम

Sep 11 2018 04:30 PM

जयपुर: अपने अनुयायियों के बीच भगवान की तरह पूजे जाने वाले आसाराम को नाबालिग लड़की से बलात्कार के लिए जेल की कारावास की सजा सुनाई गई थी, लेकिन अब सजा से तंग आकर आसाराम ने राजस्थान राज्यपाल को दया याचिका भेजी है. अपनी दया याचिका में, आसाराम ने अपनी बुढ़ापे का हवाला दिया और "गंभीर" दंड से राहत मांगी.

जम्मू-कश्मीर: सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़, 2 आतंकी हुए ढेर

उल्लेखनीय है कि 25 अप्रैल को, आसाराम को पांच साल पहले अपने आश्रम में से एक 16 वर्षीय लड़की से बलात्कार करने का दोषी पाया गया था. सजा को चुनौती देते हुए, आसाराम 2 जुलाई को राजस्थान उच्च न्यायालय चले गए थे लेकिन याचिका सुनवाई के लिए अभी तक सूचीबद्ध नहीं है. राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह ने गृह विभाग को याचिका दायर की है जिसमें विस्तृत रिपोर्ट मांगी गई है, विभाग ने याचिका को जोधपुर सेंट्रल जेल प्रशासन को भेज दिया है, जिसने बदले में जिला प्रशासन और पुलिस से एक रिपोर्ट मांगी है.

लौह पुरुष की विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा बनकर हुई तैयार

जोधपुर सेंट्रल जेल के अधीक्षक कैलाश त्रिवेदी ने कहा कि "हमें आसाराम की दया याचिका मिली है, हमने इस दया याचिका पर जिला प्रशासन और पुलिस से एक रिपोर्ट मांगी है. इस रिपोर्ट की प्राप्ति के बाद, जेल प्रशासन इसे राजस्थान के महानिदेशक (जेल) को भेज देगा. जोधपुर अदालत ने आसाराम के दो सहयोगियों, संचिता उर्फ ​​शिल्पी और शरद चंद्र उर्फ ​​शरत चंद्र को भी अपराध में मदद करने के लिए 20 साल की सजा सुनाई है. आपको बता दें कि आसाराम सितम्बर 2013 से जोधपुर जेल में है. 

खबरें और भी:-

पेट्रोल-डीजल पर कांग्रेस का भारत बंद, कही टायर जलाए तो कही ट्रेने रोकी

केरल नन रेप केस: विधायक ने बताया नन को वेश्या, एनसीडब्ल्यू ने की कार्यवाही की मांग

एक भी घुसपैठिये को नहीं रहने देंगे: अमित शाह

Related News